आँखों की फिट डाइट

by Shailesh K
eye

आँखे अनमोल है क्यूँकी ये खूबसूरती से हमारा इंट्रोडक्शन करवाती है। नेचर का यह गॉड गिफ्ट हमेशा सेफ और ब्यूटीफुल रहे इसके लिए भी फिट डाइट की जरूरत होती है। 

आँखे हमें दुनिया की खुबसुरत दिखती है , साथ ही हमारी सुंदरता में भी इजाफा करती है। यह जितनी ब्यूटीफुल होती है , उतनी ही सेंसिटिव भी। केयर में ज़रा सी लापरवाही होते ही इनमे बीमारिया लग सकती है। इन्हे बीमारियों से सेफ  रखने के लिए सही डाइट की जरूरत होती है। 

लाइफस्टाइल का असर 

टेक्नोलॉजी के इस दौर में लाइफस्टाइल तेजी से चेंज हो रही है। लोग एंटरटेनमेंट के लिए टीवी से चिपके रहते है , तो एजुकेशन के बदलते ट्रेंड में स्टूडेंट्स के लिए कंप्यूटर फर्स्ट प्रायोरिटी बन गया है।  आखो पर जोर बढ़ता जा रहा है , रिजल्ट यह आ रहा है की अब बहुत से लोगो लोगो की आई साइट काम उम्र में ही वीक हो रही है और उन्हें चश्मे की चश्मे की हेल्प लेनी पड़ती है। बदलती लाइफस्टाइल से शायद हम कॉम्प्रोमाइज़ न कर सके।  लेकिन अगर आप सही डाइट चार्ट बना ले , तो आई प्रॉब्लम से काफी हद तक सिक्योर रहा जा सकता है। 

राइट है सही डाइट

आँखों की सेफ्टी के लिए सबसे पहले एक डाइट चार्ट बनाए। इसमें किसी स्पेशलिस्ट या डॉक्टर की मदद भी ले सकते है। अपनी डाइट में ऐसी चीज़ो को शामिल करे जो पौष्टिक हो और जिनमे पर्याप्त विटामिन्स भी हो . कोशिश यह करें कि विटामिन ए की अधिकता ज्यादा हो ध्यान रखे की विटामिन की कमी के चलते ड्राई – आई सिंड्रोम और आई लिड डिसऑर्डर हो सकता है। 

विटामिन ए मस्ट 

आखो की अधिकतम बीमारी विटामिन ए  की कमी से होती है। बीमारियों से सुरक्षित  रहने के लिए ऐसी डाइट रखें जिसमे विटामिन ए अधिक से अधिक हो। विटामिन ए अगर  सही मात्रा में बॉडी को मिल रहा है तो आपका  का रेटिना पर असर कम दिखाई देता है। आई साइट भी वीक नहीं होती विटामिन ए के लिए शिमला मिर्च ,गाजर, अंडे, बटर, नट, मछली, हरी सब्जियां  आदि को अपनी डाइट में लेना फायदेमंद है।

फॉर ब्यूटीफुल  आईज 

विटामिन सी जहा आँखो के लिए के लिए लाभदायक है वही इससे इनका अट्रैक्शन भी लॉन्ग पीरियड तक बना रहता है।  जो लोग अपनी डाइट में विटामिन सी को शामिल करते है उनमे कैटेरकेट होने की आशंका कम हो जाती है।  साथ ही आखो की ब्यूटी को ख़तम करने वाले काले  धब्बे भी नहीं पड़ते है। विटामिन सी के लिए हमें संतरे ,निम्बू ,अंगूर, स्ट्रॉबेरी ,पपीते ,पत्तेदार सब्जियों का सेवन करना चाहिए। 

कैटरेक्ट से बचाव 

विटामिन इ की सही मात्रा कैटरकट की बीमारी 

से बचाव करती है। इसे जरूर अपनी डाइट में शामिल करें। पपीता ,नट ,बादाम ,अखरोट ,पालक ,सरसो की सब्ज़ी , मक्का का तेल आदि अगर डाइट में है तो विटामिन इ आपको ठीक मात्रा में मिल रहा है। पर्याप्त  इ लेने से मोतियाबिंद से भी बचाव हो जाता है। 

सेलेनियम की इम्पोर्टेंस 

सेलेनियम हेल्दी और ब्यूटीफुल आईज के लिए किसी गॉड गिफ्ट से कम  नहीं है। यह कैटरेक्ट से हमारा बचाव करता है।  जिन लोगों को मोतियाबिंद की बीमारी हो जाती है उनके लिए यह किसी अच्छी मेडिसिन से काम नहीं है। मछली , मशरूम ,प्याज़ इत्यादि अगर डाइट में शामिल है तो सेलेनियम ठीक मात्रा में आपकी बॉडी को मिल रहा है। 

ज़िंक है जरूरी 

ज़िंक भी अन्य विटामिन्स की तरह आखो के लिए मस्ट है। मूंगफली ,दही ,चॉकलेट ,कस्तूरी ,तिल आदि को डाइट चार्ट में शामिल करने वालो को ज़िंक की कमी नहीं होती है। अपनी डाइट में ज़िंक देने वाली चीज़ जरूर शामिल करे ,देखिएगा कई छोटी- बड़ी बीमारिया के साथ – साथ आखो में धब्बे पड़ने पड़ने की प्रॉब्लम भी सामने नहीं आएगी। 

योग की हेल्प 

जरूरी मिनरल्स की कमी के साथ साथ थकान भी आखो के लिए डेंजरस है। अगर आखो को आराम नहीं मिल रहा है तो भी कई प्रकार की बीमारियों की चपेट में आ जाती है आखो को थकान से बचने के लिए योग एक बेहतर ऑप्शन है। योग से आँखे हेल्दी और ब्यूटीफुल बनी रहेगी। नियमित रूप से सुबह शाम कुछ टाइम योग करें। परिणाम  खुद ही दिखाई दे जाएगा।  

Related Posts

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy