Corona में डिजिटल प्लेटफार्मों का उपयोग

by Pankaj Kumar
muftgyan

जैसा कि हम जानते हैं कि “Covid-19” के माध्यम से पूरी दुनिया में महामारी है। “Covid-19” नामक इस संकट से पूरी दुनिया पीड़ित है। सभी सेक्टर इससे खराब स्थिति में हैं। इस समय में डिजिटल वर्ल्ड कहा जाने वाला सेक्टर है जो काफी चल रहा है, जो की हमारी अधिकांश आवश्यकताओं को आसानी से पूरा सकता है।

 इस डिजिटल दुनिया ने सरकार द्वारा ग़रीबों को DBT (Direct Benefit Transfer) के रूप में सभी क्षेत्रों में मदद की है। सरकार की इस योजना से ज़रूरतमंद और कमजोर समूहों के लोगो को सीधे उनके खातों में मदद दी जाती है। इस संकट की घडी में सरकार द्वारा विकसित डिजिटल ऐप इस बिंदु पर प्रतिक्रिया देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं । इसके अलावा हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी   ने 12 मई को राष्ट्र को जोड़ने के लिए आत्मनिर्भर भारत ’का आह्वान किया और उल्लेख किया कि प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण के साथ कोरोना संकट के दौरान सरकार देश में ज़रूरतमंद लोगों को धन हस्तांतरित करने में सक्षम थी।

अब हमारे पास कई डिजिटल प्लेटफॉर्म हैं जो संकट के दौरान मदद करते हैं। इन डिजिटल प्लेटफार्मों ने देश के कई विभागों में कई तरह से मदद की। अब हम कुछ ऐसे डिजिटल प्लेटफार्मों की चर्चा करेंगे, जिन्होंने कोरोना संकट के दौरान मदद की-

1. अरोग्यसेतु ऐप

यह ऐप सरकार द्वारा देश में कोरोना वायरस के संक्रमण के जोखिम का आकलन करने के लिए विकसित किया गया है। यह ब्लूटूथ टेक्नोलॉजी और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का उपयोग करके कोरोना वायरस के संक्रमण के जोखिम की गणना करता है। आरोग्यसेतु ऐप आसानी से उस फोन की निकटता में आने वाले स्मार्टफोन का पता लगाता है।

यह एप्लिकेशन कोरोना वायरस के जोखिम की भी गणना करता है, यह एप्लीकेशन आस पास संकर्मित कांटेक्ट के बारे में भी बताता है कि आपका उससे संपर्क हुआ या नहीं । यह ऐप सरकार को कोरोना वायरस के प्रसार के जोखिम का आकलन करने के लिए आवश्यक कार्रवाई और समय पर कदम उठाने में मदद कर रहा है।

2. भीम ऐप

                       यह एक भारतीय मोबाइल भुगतान ऐप है, जो (NPCI) नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया द्वारा विकसित किया गया है, जो UPI (यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस) पर आधारित है। इसे सरकार द्वारा दिसंबर 2016 को लॉन्च किया गया था। यह देश में ऑनलाइन भुगतान को बेहतर बनाने में मदद करता है। इसमें ऑनलाइन पेमेंट बहुत सुरक्षित हैं और इसकी खास बात यह है की यह 24/7 सर्विस उपलब्ध कराता हैं। इसके अलावा, यह उपयोगकर्ता को बैंक खाते में उनके शेष राशि की जांच करने की अनुमति देता है जो आचरण लेनदेन के लिए उपयोग किया जाता है।

3. IRCTC

IRCTC (इंडियन रेलवे कैटरिंग एंड टूरिज्म कॉर्पोरेशन लिमिटेड) ऐप्प के द्वारा आप बहुत ही सरल तरीके से ऑनलाइन टिकट बुक कर सकते है। इससे उपयोगकर्ता को लंबी कतारों में खड़े होने और मोबाइल फोन के माध्यम से ई-टिकट बुक करने की आवश्यकता नहीं होती है। यह उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोग करने के लिए बहुत आसान और सुरक्षित है। इससे उपयोगकर्ता अपने घर से ही अपने टिकट बुक कर सकते हैं। इसके अलावा यह भीम ऐप इंटरफ़ेस को सक्षम करता है जो उपयोगकर्ता के लिए ऑनलाइन सुरक्षित भुगतान सक्षम करता है।

4. GeM

यह एक ई-कॉमर्स पोर्टल या सरकारी ई-मार्केटप्लेस के रूप में बनाया गया है जो सरकार को अपने विक्रेताओं को नकद या भौतिक भुगतान के बिना खरीदने के लिए उनकी आवश्यकताओं को खरीदने की अनुमति देने के लिए बनाया गया है। यह सरकारी अधिकारियों को अपने विभागों के लिए आइटम खरीदने में सक्षम बनाता है।

5. SWAYAM

यह सरकार द्वारा ऑनलाइन लर्निंग प्रदान करने के लिए एक ऑनलाइन प्रोग्राम है।

यह वंचितों सहित सभी को सर्वोत्तम शिक्षण अधिगम संसाधन उपलब्ध कराता है। यह मंच देश में महामारी के दौरान सबसे अच्छा ऑनलाइन शिक्षण मंच बन गया।

वर्तमान महामारी के कारण ऑनलाइन शिक्षण संकट के दौरान सबसे महत्वपूर्ण उपकरण बन गया जब सभी स्कूलों और कॉलेजो को लॉकडाउन में बंद कर दिया गया। यह छात्रों को संकट के दौरान संवादात्मक तरीके से सीखने का आकलन करने में मदद करता है।

5. Direct Benefit Transfer

यह भारत सरकार द्वारा विभिन्न सामाजिक कल्याण योजनाओं जैसे एलपीजी सब्सिडी, मनरेगा भुगतान, वृद्धावस्था पेंशन, छात्रवृत्ति आदि के लाभ और सब्सिडी को लाभार्थी के बैंक खाते में सीधे रखने की योजना है। यह सरकार को देश के वंचित वर्ग के उत्थान और बेहतरी के लिए देश के जरूरतमंद और कमजोर वर्ग की मदद करने में सक्षम बनाता है।

Related Posts

1 comment

Jaswant July 10, 2020 - 4:48 pm

Best msg

Reply

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy