बरसात में भूलकर भी ना करें ये गलतियां वरना हो सकते हैं बीमार

by Kuldeep Singh
barsat images

मानसून का सीजन आ गया है इस सीजन में प्राकृतिक सुंदरता तो बहुत ही बढ़ जाती है परंतु प्राकृतिक सुंदरता बढ़ने के साथ लोगों में कई तरह की बीमारियां भी बढ़ जाती है क्योंकि मानसून हमेशा गर्मी के बाद आता है तो लोग अक्सर बारिश में भीगना पसंद करते हैं और वह दिल खोलकर इस मौसम में मजे करते हैं परंतु मजे लेने के चक्कर में लोग अपने स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ कर बैठते हैं और बहुत सी छोटी-छोटी बीमारियां लोगों के पास आ जाती जैसे कि सर्दी खासी जुखाम बुखार यह सब बीमारियां बारिश के मौसम में बारिश के मौसम में होना आम बात है तो आज मैं आपको इस ब्लॉग में बताऊंगा कि आप कैसे सिंपल सिंपल छोटी छोटी चीजों को फॉलो कर कर कैसे अपने आप बीमार होने से बचा सकते हैं |

  • बारिश में भीगने से बचें

बारिश में भीगना सभी को अच्छा लगता है| चाहे छोटा हो या बड़ा जब भी बारिश आती है लोग अक्सर अपने घरों से बाहर बारिश में नहाना पसंद करते हैं और यही छोटी सी गलती उन्हें बीमार कर बैठती है| बारिश में भीगने के कारण अक्सर लोगों को खांसी, जुखाम, बुखार, सर्दी आदी हो जाती इसलिए बारिश में भीगने से बचें और बाहर निकलते वक्त छाता या रेनकोट पहन कर निकले |

  • बाहर रोड पर लगी हुई स्टॉल से खाना खाने से बचे

लोग अक्सर बारिश के मौसम में मसालेदार और तेल से बना हुआ खाना बहुत पसंद करते हैं और आजकल लोग लाइफस्टाइल तो ऐसी हो गई है की टाइम तो है ही नहीं तो मैं अक्सर बाहर से या तो खाना ऑर्डर कर लेते हैं या बाहर जाकर कहीं खा लेते हैं. ऐसे में वह बहुत बड़ी गलती कर बैठते और वह जाने अनजाने में गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल समस्याओं को आकर्षित कर बैठते हैं. इस मौसम में हमें केवल अच्छी तरह से पका हुआ खाना ही खाना चाहिए और अच्छी तरह से पका हुआ खाना सिर्फ अपने घर पर ही बना सकते हैं या खा सकते हैं तो मेरी आपसे यही सलाह सलाह है कि घर पर अच्छे से पका हुआ ही खाना खाए |

  • गीले होने पर AC रूम में जाएं

यदि आप बारिश में भीग गए हैं तो भूल कर भी AC कार्यालय या AC कमरे या अपनी गाड़ी में बैठ कर भी AC ना चलाएं अक्सर लोग यह गलती कर बैठते हैं बुखार खांसी जुखाम को आमंत्रित कर बैठते हैं. AC के पास जाने से पहले अपने आप को पूरी तरह सुखा ले |

  • गंदे हाथों से अपना चेहरा न छुएं

 बाहर से जब आप घर लौटते हैं तो आपके हाथों में सैकड़ों रोगाणु होते हैं. इसलिए कभी भी अपने गंदे हाथों से अपना मुंह, आंख, कान को न छुएं. ऐसा करने से सूक्ष्मजीव आपके शरीर में प्रवेश कर सकते हैं. इसलिए हैंड वाश या साबुन से अपने हाथों को जरूर धोएं

  • खुद को मच्छरों से बचाएं

बारिश के मौसम में बहुत से मच्छर पैदा हो जाते हैं | और मच्छरों से बहुत तरह की बीमारियां होती है. तो हमें मच्छरों से बचना चाहिए और सोते समय या तो मच्छरों को भगाने वाली क्रीम लगाएं या मच्छरदानी का प्रयोग करें. अपने घर के दरवाजे और खिड़की को बंद रखें ताकि मच्छर घर में प्रवेश ना कर पाए.

  • घर में या घर के आसपास पानी जमा ना होने दें

पानी का इकट्ठा होना एक सामान्य और अक्सर मानसून बारिश में हमसे इसे अपने घरों के आसपास देख सकते हैं. घर के आस-पास खाली पड़े टैंक, टायर, कचरा के डिब्बे, बोतल, फूलों के बर्तन में पानी में जमा होने से रोके और घर के आस-पास साफ सफाई रखें|

  • बच्चों को पानी के टैंक में खेलने से रोके

मानसून के दौरान बच्चे अक्सर पानी में खेलना पसंद करते हैं लेकिन इसके साथ साथ उनमें बुखार सर्दी गले में खराश आदि का खतरा बना रहता है क्योंकि हो सकता है खेल के दौरान वह पानी पी ले और जो कि दस्त, हैजा, टाइफाइड और अन्य जल जनित रोगों का कारण बनते हैं. इसलिए बच्चे को पानी के टैंक में खेलने से रोके.

  • एलर्जी से बचें

यदि आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें धूल और जुम्मे के कारणों से एलर्जी है तो बारिश के मौसम में इनसे बचे क्योंकि यदि आप इनके संपर्क में आते हैं तो एलर्जी का शिकार हो सकते हैं और आप के बीमार होने की संभावना अधिक बढ़ जाती है|

  • बीमार लोगों से बचें

अगर आप मानसून के मौसम सभी तरह की सावधानियां बरतें लेकिन बीमार व्यक्ति से दूरी नहीं बनाते दो तो सब कुछ बेकार है क्योंकि बीमार व्यक्ति के संपर्क में आने से आपके बीमार होने की संभावना अधिक बढ़ जाती है क्योंकि मानसून के मौसम में वायरस बहुत देर तक वातावरण में रह सकता है इसलिए बीमार व्यक्ति से थोड़ी सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखें|

अगर आप ऊपर बताई गई बातों को फॉलो करते हैं तो निश्चित रूप से आप अपने आप को मानसून के मौसम बीमार होने से बचा सकते हैं|

Related Posts

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

Privacy & Cookies Policy